भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग लगने से धुआँ माहौल पर छाया तमाम / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आग लगने से धुआँ माहौल पर छाया तमाम ।
बात मामूली थी लेकिन ज़ह्न ने सोचा तमाम ।

चोट तो बस ऊँचे-ऊँचे पर्वतों पर की गई,
और नीचे ख़ून में लथपथ हुए दरिया तमाम ।

धीरे-धीरे बढ़ रही थी प्यार के दीपक की लौ,
एक झोंके ने तुम्हारे कर दिया क़िस्सा तमाम ।

मुझसे मिल कर किस क़दर होगी मसर्रत आपको,
इस तसव्वुर के सहारे कट गया रस्ता तमाम ।

शह हवा की पा के कुछ तिनके शरर से जा मिले,
रफ्ता-रफ्ता नज्र-ए-आतिश हो गया सहरा तमाम ।

एक झोंका मग़रिबी आँधी का आया और ’नदीम’
साफ़-सुथरे घर को मेरे कर गया गन्दा तमाम ।