भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग / सलाम मछलीशहरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब क़लम में
एक रंगीं इत्र भर लो
तुम हसीं फूलों के शाइर हो कोई ज़ालिम न कह दे
शोला-ए-एहसास के काग़ज़ पे कुछ लिखने चला था
और काग़ज़ पहले ही इक राख सा था
बात वाज़ेह ही नहीं है

शाइर-ए-गुल
दाएरे सब मस्लहत-बीनी के अब मौहूम से हैं
बात खुल कर कह न पाए तुम
तो बस ज़िरो रहोगे

अब क़लम में आग भर लो
आग तुम को राख कर देने से पहले सोच लेगी
ज़िंदा रहने दा इसे
शायद ये मेरी लाज रख ले
लोग अब तक आगे के मअ’नी ग़लत समझे हुए हैं
आग आँसू आग शबनम
आग आदम के रबाब-ए-अव्वलीं की गीत