भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग / हरीश हैरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

च्यारूं भाई
एक ई तूळी सूं
अजै ई सिलगावै बीड़ी
पण रोटियां सारू
घर में बण रैया है
कई चूल्हा!