भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आजमाइश / माधव शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिगर संग कर लो इधर आने वालो, नहीं पड़े घर में बच्चों को पालो।
अगर दिल में ज़ख़्म कीनः हो राम हो, तो कुर्बान कर सब कुछ धूनी रमा लो।।
अगर कान सुनते हों, आँखें खुली हों, तो तुम भी ये खद्दर की कफ़नी रँगा लो।
न डर जेल का हो, न फाँसी का ग़म हो, मुसीबत जो आए ख़ुशी से बुला लो।।
मगर शर्त ये दिल में गुस्सा न आए, ये आने से पहले ज़रा आजमा लो।
स्वराज ऐसी शै है नहीं जिसको 'माधो', पड़ी राह में हो ख़ुशी से उठा लो।।