भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आजादी केॅ पचासवाँ वर्ष / मथुरा नाथ सिंह 'रानीपुरी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पचास बितलै आजादी केॅ
बढलोॅ जाय छै सगरो चोर
कुर्सी-कुर्सी में घुसखोरी
सगठे मचलोॅ जाय छै शोर॥

जन्ने-तन्ने लुटै लुटेरा
बे-मानी केॅ सगरो घेरा
भ्रष्टाचार केॅ देखी-देखी
अंखियो भैलै लोर-सलोर॥

जात-पात केॅ झगड़े-झगड़ा
मन्दिर-मस्जिद लफड़े-लफड़ा
खिच-खिच करै आ आना-कानी
फटलोॅ जाय छै यही पटोर॥

टुटलोॅ जाय छै हड्डी-पसली
के असली छै के छै नकली
डर लागै छै डेगे-डेगे
एक दोसरा सें छै कोर॥

हे आजादी तोंय बताबोॅ
तू-तू में-सें लाज बचावोॅ
धिकवा-मत्थन, उटका-पैंची
सें धरती नै करोॅ घिकोर॥

आजादी केॅ नै तोॅ लूटोॅ
‘रानीपुरी’ नय् है रंग टूटोॅ
करोॅ विकास अपना देशोॅ केॅ
मांटी केॅ सब पोछोॅ लोर॥