भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आजादी / मनोज पुरोहित ‘अनंत’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हे तो उडाया
मनां कनां
स्याणप सूं
धोळिया कबूतर
स्यांति अर संपत सारू।

थे तो
मार ई काढ्या
म्हे तो
होया कुरबाण
थांरी आजादी सारू
थां रोपी
म्हारी मूरत्यां
घाली माळा
म्हारै गळै में
होग्या आजाद
अब उजाड़ो घर
निरबळां रो
म्हे तो नीं दी
इत्ती आजादी
फेर थे
इयां कियां होग्या
इत्ता आजाद ?