भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आजुल उपासे होंय धिया के चरनन कों / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आजुल उपासे होंय धिया के चरनन कों
आजी उपासे होंय धिया के चरनन कों
बाबुल उपासे होंय बेटी के चरनन कों,
मैया उपासं होय बेटी के कन्यादान लैवें कों।
काकुल उपासी होंय बेटी के चरनन कों,
काकी उपासी होंय बेटी के कन्यादान लेवें कों।
मामा उपासे होंय बेटी के चरनन कों,
मायीं उपासीं होंय बेटी के कन्यादान लैवें कों।