भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आजै ई सिळगै / चैनसिंह शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ किला, म्हैल, मिंदर
सगळा थां रा ई तो निजराणा हा
जोधा पण थे ई हा
जितरा ई स्वयंवर होया
कै होया हरण
थे ई जीत्या हा सगळा जुध
जिया तो थे
मर्या तो थे
अमर इतिहास पुरुस।
एक बस जौहर री सैनाण बाकी है
कांकरां मांय कांकरा बण्या हाड
हरम रै हरामीपणै मांय
सांस लेवती हिचक्यां।
 
थांरा सिरपेच सदा ऊंचा
खंभा माथै झूलती
मूंछ मरोड़ती मुलक
हरमेस कायम।
 
आज तांई जीवै
जौहरां बळतै चाम री बास
सतीपणै री कथावां मांय
किणी रै मिनख होवण माथै सवाल
आजै ई सिळगै।