भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज की दोपहर से अतीत तक / विपिनकुमार अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हरी कोमल पीपल की पत्ती
झाँकी पत्थर के आँगन की दरार से
हँसते मालिक के सफ़ेद दाँत-सा
आलोकित हुआ नौकर का दुबका मन

यह क्या
जलने लगी
धूप
जैसे मौत की हँसी

घूमी पृथ्वी
फिर से
ग्रह और नक्षत्र
बदलने लगे घर
हिला आसन
इन्द्र का

डगमगाई पृथ्वी
संशय से
बीत गई उम्र
हम सब की
बनने में अतीत