भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज की यह रात! / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज की यह रात!
प्रचण्ड ग्रीष्म की चाँदनी में-
अंगूर-से मोतियों का कंठा पहने,
किसी ईरानी दुलहिन के लाल होठों से सटी
माणिक-मदिरा-भरी एक मरकत की प्याली-सी है!-
वह प्याली, -जिसमें शिखी-छत्र सी चौड़ी बरौनियों वाली
कजरारी आँखें
भी प्रतिबिम्बित हों,
और जिसकी मदिरा, यौवन की मांसल गंधमयी साँसों से
सिहर-सिहर कर रह जाय-
होठों के कगारों से टकराकर...

आज की यह रात!