भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आज की रात / फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज की रात साज़े-दर्द न छेड़

दुख से भरपूर दिन तमाम हुए
और कल की ख़बर किसे मालूम
दोशो-फ़र्दा की मिट चुकी है हदूद
हो न हो अब सहर किसे मालूम
ज़िन्दगी हेच लेकिन आज की रात
एज़दीयत है मुमकिन आज की रात
आज की रात साज़े-दर्द न छेड़

अब न दुहरा फ़सानहा-ए-अलम
अपनी किसमत पे सोगवार न हो
फ़िक्रे-फ़र्दा उतार दे दिल से
उमरे-रफ़ता पे अश्कबार न हो
अहदे-ग़म की हिकायतें मत पूछ
हो चुकीं सब शिकायतें मत पूछ
आज की रात साज़े-दर्द न छेड़