भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज कुछ फिर पुराना याद आया / आशीष जोग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


आज कुछ फिर पुराना याद आया,
एक भूला तराना याद आया |

घर की छत पर वो धूप जाड़े की,
बारिशों में नहाना याद आया |

कितने अच्छे थे दोस्त बचपन के,
उनके घर रोज़ जाना याद आया |

मौज मस्ती वो आवारागर्दी,
घर में फिर डांट खाना याद आया |

गर्मियों की भरी दुपहरी में,
बाग़ से फल चुराना याद आया |

रोज़ लगती थी ताश की बाज़ी,
हार कर मुँह फुलाना याद आया |

दूर जा कर कहीं पे चोरी से,
रोज़ धुंआ उडाना याद आया |

खिडकियों के छुप के पर्दों में,
उसको चुप-चाप तकना याद आया |

घर के पीछे थी रेल की पटरी,
गाड़ी का छुक-छुकाना याद आया |

दादी नानी की डांट वो मीठी,
और फिर मुस्कुराना याद आया |

घोड़े की ढाई घर की चालें वो,
ऊँट का टेढ़े जाना याद आया |

उसके पीछे घर तलक जाना,
और फिर लौट आना याद आया |

इम्तिहान के भी दिन वो क्या दिन थे,
दिल का वो धुक-धुकाना याद आया |

खेल कर घर वो देर से आना,
रोज़ झूठा बहाना याद आया |

घर में आतीं थीं मेरे दो चिड़ियाँ,
उनका वो चह-चहाना याद आया |

वो भी क्या दिन थे खूब बचपन के,
एक गुज़रा ज़माना याद आया |