भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज को छोड़ दिया जो तो मेरा कल फिसला / राम गोपाल भारतीय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज को छोड़ दिया जो तो मेरा कल फिसला
रेत की तरह मेरे हाथ से हर पल फिसला

मैं भटकता ही रहा ग़म के बियाबानों में
जब भी सर से मेरे माँ-बाप का आँचल फिसला

लोग कहते हें इसे दर्द का रिश्ता शायद
मैं भी रोया जो तेरी आँख से काजल फिसला

इस तरक़्क़ी में भी क्या-क्या न गँवाया हमने
शहर से छाँव गई गाँव से पीपल फिसला

चाँद छूने के लिए जिसने वतन को छोड़ा
आसमाँ छू न सका और धरातल फिसला

तू भी धरती की तरह प्यास लबों पर रखना
हाँ वही प्यास जिसे देख के बादल फिसला