भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज तक / वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक दिन तुम्हें
कह बैठी
सूरज
जल रही मैं
आज तक

बर्फीले लोग
सीली धरती
रह गए
तुम्हारे साथ

उन अंधेरों को भी
ले गया होगा
तुम्हारा ही साया

पर झुलसते गए
मन के कोने

इन्हीं को
अपना कहती रही
आज तक

कब तक
जलती रहूं
तुम्हारी आग में

होने लगी हूं बर्फ
क्या जानने को
तुम्हारे अर्थ