भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज दिन सोने का कीजो महाराज / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आज दिन सोने का कीजो महाराज
सोने को सब दिन, रूपों की रात,
मोती के कलसे भराऊँ महाराज॥ आज दिन...
आज बहूरानी मेरे घर में है आई
नौबत-नगाड़े, बजवाऊँ महाराज॥ आज दिन...
हरे-हरे गोबर अँगना लिपाऊँ
बंदनवारें बँधवाऊँ महाराज॥ आज दिन...
सखी-सहेलिन सबकू बुलवा के
मंगल-गीत गवाऊँ महाराज॥ आज दिन...
साज-सिंगार बहू को करवा के
राई-नोन उतारूँ महाराज॥
आज दिन सोने को कीजे महाराज्॥