भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज नतमस्तक भएको छु / धुस्वाँ साय्‌मी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज
नतमस्तक भएको छु
आफ्नै अगाडि

निकै वर्षदेखि सुतेको
मेरो ‘म’
ब्युँझेको छ आज फेरि
किनभने
आज मैले चोरढोकाबाट हैन
भित्रिएर सदर ढोकाबाट
सब थोक भनिदिएँ