भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज भई मोरे मन की, सुनो सैंया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आज भई मोरे मन की, सुनो सैंया
सासो न आवे हमारो का बिगरे,
चरुजा चढ़ाई बच जैहें, सुनो सैंया। आज...
तुम उठके पिया चूल्हा जलइयो,
हम चरुआ धर लैहें, सुनो सैंया। आज...
जिठनी न आवे हमारो का बिगरे,
लड्डू बंधाई बच जैहें, सुनो सैंया। आज...
तुम उठ के पिया मेवा ले अइयो,
हम लड्डू बांध लैहें, सुनो सैंया। आज...
ननदी न आवें हमारो का बिगरे,
संतिया धराई बच जैहें, सुनो। सैंया...
तुम उठके पिया गोबर ले आइयो,
हम संतिया धर लैहें, सुनो सैंया। आज...
पड़ोसन न आवे हमारो का बिगरे,
सोहर गबाई बच जैहें, सुनो सैंया। आज...
तुम उठके पिया ढोलक बजइयो,
हम सोहर गा लैहें, सुनो सैंया। आज...