भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज भळै / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सगळा हा
उण घड़ी
जिण घड़ी
औसरी ही
आभै सूं अकूंत माटी
सगळा जड़ होय
मिळग्या बणतै थेड़ में

आज भळै
आपरा ई वंसजां नै
खोद काढ्या है
कस्सी
खुरपी
बठ्ठल-तगारी!