भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज मिलौ है सुख साँचौ सौ / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज मिलौ है सुख साँचौ सौ ।
मिल गऔ है कौनऊं अपनौ सौ ।

उठत भुंसरा मौ देखौ है,
दिन निकरौ नौनौं नौनौं सौ ।

देखत देखत उकता गए ते,
सडौ बुसौ रूखौ रौनों सौ ।

खनक भरी बोली है ऐसी,
जैसें खनकत है कांसौ सौ ।

लगै देख कें ऊखों जैसें,
भौत पुरानौ है नातौ सौ ।

केउ दिनन के बाद देखवे,
मिलौ सुगम कौनऊं सपनौ सौ ।