भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज शहर में आग लगी है / ज्ञान प्रकाश आकुल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज शहर में आग लगी है,
नल से लाल लहू निकलेगा।

दिन भर लाउडस्पीकर पर
तरह तरह के भाषण बोली
पलक झपकते आ जाते हैं
चाकू तेग तमंचे गोली
और रात को लाशें गिनने-
की खातिर उल्लू निकलेगा।

जासूसी से डरे शहर ने
हर भिखमंगा भगा दिया है
बाजू वाले अब्दुल चाचा ने
घर ताला लगा दिया है
मुझे फोन पर पूछ रहे थे कब?
आखिर कब तू निकलेगा।

सड़कों ने खामोशी झेली
गलियों ने झेला है सदमा
मुजरिम है मालूम सभी को
चाहे जब तक चले मुकदमा
आग लगाने का आरोपी
जुगनू है, जुगनू निकलेगा।