भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आड़ी तिरछी लकीरें / विजेंद्र एस विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम,
बस दूर खड़े
एक मूक दर्शक की भाँति
आवाक देखते रहे / अवाक
और,
मुझे उन चन्द
आड़ी-तिरछी लकीरों ने
असहाय बना दिया
तुम!!!
चाहते तो रंगो की एक दीवार
खड़ी कर सकते थे