भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आततायी / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो बरसता नहीं
वह बादल
पानी ले
कहाँ चला जाता है
आसमां निहारते
ढेर सारे लोगों को
प्यासा रख
क्या वह डूब जाता है
वादों के दरिया में
जब बरसता था भरपूर
गरजना तोड़ती है
झकझोड़ती है
उनींदे सपने
क्या बिना बँटे पानी
बरसेगा एक-सा
शायद नहीं
हरिगज नहीं
आततायी इन्द्र
परोपकारी तो
कतई नहीं है फिर
क्यों बरसेगा
हमारे लिए
वो सूखा ही सही
फैलाए अपने हाथ
पसर जाएगा
हमारे
अरमानों में
जबरिया राज करने