भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आती है लाज / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूछा कोयल से- ‘कैसे
मीठी तेरी आवाज?
वन की ओ लता मंगेशकर,
हमको तुझपर नाज’।

मीठी ‘कुहू-कुहू’ का कोयल
ने खोला यों राज-
‘भैया! कडवे बोल बोलने
में आती है लाज’।

[अमर उजाला (रविवासरीय, 16 दिसंबर 2001