भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आत्मबोध / विजय कुमार पंत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विश्वासों के छिपे भुजंगों ने अब डसना छोड़ दिया है....
रोना मुश्किल ना हो जाये, मैंने हँसना छोड़ दिया है ....

तोड़ दिया है जाल समय का बिसरा कर सब पिछली यादें
ढीले-ढाले संबंधो को मैंने कसना छोड़ दिया है....

रंग बिरंगी दुनिया अक्सर ठहरा देती थी जीवन को
अनुमानों से गढ़े महल में, मैंने बसना छोड़ दिया है...

उम्मीदों के नए नए सुख अब कुछ डिगा नहीं पाते है..
फंसे फंसे से अरमानो में , मैंने फंसना छोड़ दिया है...