भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आत्म विश्वास (२) / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तीर्थ से तिरे हैं केते व्रत से तिरे हैं,
                 तप से तिरे हैं संत आत्मा महान से |
केते तिरे हैं योग यज्ञ के प्रताप प्रभु,
                 केते तिरे हैं मानव उर ज्ञान से |
केते तिरे हैं दया दान धर्म कर-कर के,
                केते तिरे हैं सत्य राम नाम ध्यान से |
एते करमों में मोसों कोई कर्म बन्यो नाय,
            शिवदीन तो तरेगा साधू आपकी जबान से |