भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदमी में / ओम पुरोहित ‘कागद’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आदमी जब इकट्ठे होते हैं
आदमी से घात करते हैं
बिजली के
तारों पर बैठी
चिड़िया ने चिड़िया से
बातें की

आदमजात में ही हुए हैं-
ढोला और मरवण…
उनकी बातें तो छोड़िए
अब तो
आदमी में ही
आदमी
कब होता है
लेकिन …?


अनुवाद : नीरज दइया