भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदिम डर / शकुन्त माथुर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे हाथ मॆं क़िताब है
और मैं लेट जाती हूँ
पसीने से तर
हर अच्छी चीज़ एक लड़की है
हर लड़की को एक रूमाल के रूप में
मैं पाती हूँ

रूमाल एक क़िताब है
जो किसी भी समय किसी के पास
जा सकती है
मैं क़िताब पढ़ती हूँ

हर वाक्य उसका डाल की तरह
हिल रहा है
ऐर हर शब्द एक सस्ते उपन्यास की तरह
खिंच रहा है
सफ़ेद अंडे-सी
दाँतों में दबी लड़की-
और मैं लेट जाती हूँ
पसीने से तर
आदिम डर !