भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आन्ना अख़्मातवा के लिए-4 / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: तेरे क़दमों का संगीत
»  आन्ना अख़्मातवा के लिए-4

अपने पालक की आदी हो जाती है ततैया
उसकी जात ऎसी ही होती है, भइया
पर तेईस वर्षों से पिछले मैं मलंग
गिन रहा हूँ अपनी इस अख़्मातवा के डंक


(रचनाकाल :1930)