भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आन बनी-1 / सुधीर मोता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहीं फुसफुसा कानों में
सुन सका कोई न
बात छुपी

पर गंध छुपेगी
कैसे वह
जो उठी, प्रसरी
पता चली।