भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आपकी याद चली आई थी कल शाम के बाद / मनोज मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आपकी याद चली आई थी कल शाम के बाद ।
और फिर हो गई एक ताज़ा ग़ज़ल शाम के बाद ।।
 
मेरी बेख़्वाब निग़ाहों की अज़ीयत मत पूछ ।
अपना पहलू मेरे पहलू से बदल शाम के बाद ।।
 
मसअला मेज पे ये सोचके छोड़ आया हूँ ।
अब न निकला तो निकल आयेगा हल शाम के बाद ।।
 
तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात के गम ।
तू किसी रोज़ मेरे घर में निकल शाम के बाद ।।
 
छोड़ उन ख़ानाबदोषों का तज़्करा कैसा ।
जो तेरा शह्र ही देते हैं बदल शाम के बाद ।।
 
कोई काँटा भी तो हो सकता है इनमें पिन्हा ।
अपने पैरों से न फूलों को मसल शाम के बाद ।।