भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आपां / मोहन पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बुणगट थांरी अर म्हारी
अेक....
अन्न-जळ थांरो अर म्हारो
अेका अेक....
लोही, थांरो अर म्हारो
अेक सरीखो...
जीवण थांरो अर म्हारो
अेक ई पगडाण्डी...
... तो फेर क्यूं
होवै...
आपसरी रा बांथेड़ा ?