भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आप कहते हैं जो है पैसा है / महेश अश्क

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आप कहते हैं जो है पैसा है।
हम नहीं मानते सब ऐसा है।।

हम तो बाज़ार तक गए भी नहीं
घर में यह मोल-भाव कैसा है।

रात एहसास खुलते ज़ख़्मों का
दिन बदन टूटने के ऐसा है।

कुछ के होने का कुछ जबाव नहीं
कुछ का होना सवाल जैसा है।

क्यों कथा अपनी लिख के हो रुसवा
अपना दुख कोई ऐसा-वैसा है।

आपको तो विदेश भी घर-सा
हमको घर भी विदेश जैसा है।

तुमने दिल दे ही मारा पत्थर पर
यह तो जैसे को ठीक तैसा है...।