भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आप मुझे प्यार करेंगे / येव्गेनी येव्तुशेंको

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आप मुझे प्यार करेंगे
लेकिन एकदम, तुरन्त नहीं
आप मुझे प्यार करेंगे सबकी नज़र बचाकर
और प्यार का अंत नहीं

आप मुझे प्यार करेंगे काँपते शरीर से
मानो पक्षी कोई उड़ आया हो
आपकी खिड़की में धीरे से

आप मुझे प्यार करेंगे
साफ़-सुथरा रहूँ मैं या रहूँ मैला-कुचला
प्यार करेंगे आप मुझे ही
संक्रामक रोगी ही क्यों न हूँ मैं भला

आप मुझे प्यार करेंगे, जब हो जाऊँगा मशहूर
तब भी, जब घण्टों की पिटाई के बाद
ख़ूनम-ख़ून हो, थकान से हो जाऊँगा चूर

आप मुझे प्यार करेंगे
जब बूढ़ा हो जाऊँगा मैं और घिस चुका होऊँगा
यहाँ तक कि जब मर रहा होऊँगा
और बुरी तरह पिस चुका होऊँगा

आप मुझे प्यार करेंगे, मेरा हाथ अपने हाथ में लेकर
’इस धरती पर हमारा विलग होना असंभव है’
अपने मुँह से मुझे प्यार का यह वायदा देकर

क्या ? आप प्यार करेंगे मुझे ?
आप अपने होश में तो हैं, मेरे भाई ?
आप विरक्त हो उठेंगे मुझसे जल्दी ही
पर अचानक नहीं, सिर्फ़ तब ही
जब मैं आपको नहीं दूँगा दिखाई


मूल रूसी भाषा से अनुवाद : अनिल जनविजय