भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आफैलाई खोजी हिँड्दा / रमेश क्षितिज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुर्चुड्डामा रोएँ म सारड्डीमा रेटिएँ
खोजिहिडे आफैँलाई आसुभसत्र भेटिएँ

मेरो मन लुछेर भागी जान्छ चैते हुरी
मेरो धून मागेर रातभर रुन्छ बाँसुरी
कोही सुन गुहार यो दोबाटोमै लुटिएँ
बाहिर तार रेट्दै थिए“ भित्र आफैँ चुडिएँ

अरूलाई जिन्दगी रमाउने चियाबारी
मलाई यो जिन्दगी शिरमाथि ढुङ्गे भारी
हिँड्दाहिँड्दै भेटिएँ दोबाटोमा छुट्टिएँ
पीडा जति आफ्नो भो खुसी जति सुम्पिएँ