भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आफ्नै बैरी मन / रमेश क्षितिज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बिर्सिजानेकै माया झन् हुँदोरहेछ
चोट दिनेलाई खोज्दै मन रुँदोरहेछ

छाडी गए’नि रिसाई गाली गरे’ नि
मायालु त मायालु हो माया मारे’ नि
माया मार्नेकै माया झन् लाग्दोरहेछ
मन भाँच्नेकै मनले खुसी माग्दोरहेछ

चिठ्ठी च्याते नि कहिले चिनो फोडे नि
सम्झना त साथै उसको शहर छोडे नि
टाढा जानेकै रूप नजिक घुम्दोरहेछ
रुवाउनेकै तस्वीर मनले चुम्दोरहेछ !