भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आबहुँ बूढ़ी रूढ़ी छठी-पूजन / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आबहुँ बूढ़ी रूढ़ी[1] वयठहुँ आय।
बबुआ के घोँटी[2] देहु बतलाय॥1॥
बचा[3] महाउर[4] आउर[5] जायफर[6]
सोने के सितुहा[7] रूपे[8] के काम।
जसोमती घोँटी देल चुचकार॥2॥

शब्दार्थ
  1. बड़ी बूढ़ियाँ
  2. घुट्टी
  3. वचा नामक औषध
  4. महावरी, कुलंजन
  5. और
  6. जायफल, जाफर
  7. बड़ी जाति की सीपी
  8. चाँदी