भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आबी गेलै झकसी के दिन फनू घुरि फिरी / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आबी गेलै झकसी के दिन फनू घुरि फिरी
आबी गेलै मेघराज हवा पेॅ सवार हो।
आँखी आगू तार बनै नै छै आर-पार सूझै
दुखिया के दुःख होलै खोजरी पहार हो
छपरी आकाश लागै घरबा बैहार लागै
ओसरा दलान हौलै सुअरी खोहार हो।
भभरी-भभरी गिरै देवारी के माटी झरै
हहरी-हहरी रहै दीन दुखियार हो॥