भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आबेॅ केकरा कहबौ दागी / अमरेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आबेॅ केकरा कहबौ दागी।
जेलर केॅ कुछ पता चलै नै चोर जाय छै भागी।
जे सबसेँ बड़का रागी छै, बनलोॅ वहेॅ विरागी।
जनता-हित केॅ त्यागी देलकै नेता सबटा त्यागी।
मंचे-मंच पुजावेॅ लागलै कलकोॅ द्रोही-बागी।
कोय तेॅ तार्है मेँ खुद्दन दै रात-रात भर जागी।
कोय गंग्है केॅ रोज सुखावै आपनोॅ स्वारथ लागी।
देखोॅ पुरहैते बोलै छै-कण्टाहा बड़भागी।
अमरेन्दर एक्के रँ बालै-शुक, पिक, कागा-कागी।