भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आमक गाछि / रामदेव झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नहुँ नहुँ सिहकल जखन बसात
डोल' लागल आमक पात
मजरल गाछी टिकुला भेल
धिया-पुता सब गाछी गेल
टिकुलासँ पथिया भरि गेल
अपना- अपनी घरमे देल
देथि पुदीना ओ मिरचाई
चटनी पीसथि बड़की दाइ
आमिल बनलै चीरि सुखाय
बनल कसौँझी तेल मिलाय
आम डम्हायल लीबल डारि
ओगरबाह खोपड़ी देल गाड़ि
ऊठल जोरगर जखन बिहाड़ि
डारि-पातकेँ देलक झाड़ि
लागल आमक पैघ पथार
फाँड़ासँ बनि गेल अँचार।