भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आमार सरल प्राणे एत दुःख दिले (भाटियाली)/ बांग्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आमार सरल प्राणे एत दुःख दिले।।
सहे ना यौवन ज्वाला,
प्रेम ना करे छिलाम भालो गो।
दुइ नयने नदी नाला तुइ बन्धु बहाइले।।
आगे तो ना जानि आमि,
एत पाषाण हइबे तुमि गो।
बइसे थाकताम एकाकिनी, कि इहते प्रेम ना करिले।।
तुमि बन्धु ताके सुखे,
मरब आमि देखुक लोके गो
अभागिनीर मरणकाले आइस खबर पाइले।।