भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आम्बेडकरीय कविता - 2 / प्रेमशंकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आम्बेडकर की मूर्ति—
आक्रोश के पर्याय नहीं
यह तो शेरगढ़ी की
अस्मिता का दर्शन है
पुलिसिया अत्याचार
मानव अधिकारों की व्याख्या
कई सदी से करते आ रहे हैं
आज अन्तर केवल पुलिस के
नये प्रशिक्षण के
अभ्यास का है
या वैचारिकता का
यह तो आम्बेडकर की मूर्ति ही
तय करेगी।