भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आम्बेडकरीय कविता - 3 / प्रेमशंकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उत्तर आधुनिकता
और उत्तर प्रदेश
दोनों के बीच में
पड़ा है आवंटित
एक बंजर खेत
न पट्टा दिया
और न देंगे
काग़ज़ों पर रपट लिखकर
आश्वासन
एक आम्बेडकर की मूर्ति
हवा में स्थापित कर देंगे
वोट की चोट
मूर्ति को साकार करेगी
ज़मीन हमें अपने-आप वरेगी।