भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आम्बो तलै क्यूँ खड़ी (सावन गीत) / खड़ी बोली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

"आम्बों की ठाण्डळी छाँव

आम्बों तळै क्यूँ खड़ी ?

क्या तेरे पिया परदेश

क्या घर सास बुरी"

"चल-चल मूरख गँवार

तुझै मेरी क्या पड़ी

ना मेरे ओइया परदेश

ना घर सास बुरी।” आम्बो…
कोरी –सी कुल्हिया मँगाई दहिया जमावती

आया है कालड़ा काग, दही तो मेरी चाख गया ,

उड़-उड़ काले काग तेरी चोंच बुरी।” आम्बो…

“नाक में सोन्ने की नथ, गूँठे में तेरे आरसी

है कोई चतुर सुजान जो पूछै तेरी पारसी।” आम्बो…

“ सासू का जाया है पूत, नणदिया का बीर

वो ही है चतुर सुजान, पूछैगा मेरी पारसी । आम्बो…

“आया है जो सावण मास थाम गड़ावती

जो घर होते म्हारे श्याम, मैं झूला झूलती । आम्बो…



[ यह बारहमासा गीत है। क्रमश: सभी महीनों एवं उनकी विशेषताओं का वर्णन किया जाता है। ]