भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आम अमलिया की नन्ही-नन्ही पतियाँ / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आम अमलिया की नन्ही-नन्ही पतियाँ

निबिया की शीतल छाँह

वहि तरे बैइठीं ननद भौजाई

चालैं लागि रावन की बात ।

तुम्हरे देश भउजी रावन बनत है

रावन उरेह दिखाव

तो मैं एतना उरैहौं बारी ननदी

जो घर करो न लबार


भावार्थ


आम और इमली की नन्हीं-नन्हीं पत्तियाँ हैं

नीम की शीतल छाया है

उसी के नीचे बैठी हैं ननद भौजाई

तभी रावण की बात चलने लगी ।

--'हे भावज, तुम्हारे देश में रावण बनता है

रावण का चित्र खींचकर दिखाओ ।'

--'चित्र तो मैं अवश्य खींचकर दिखाऊँ, प्यारी ननद!

यदि घर में तुम इसकी चर्चा नहीं करो ।'