भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आया अन्धड़ / सूर्यकुमार पांडेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आया अंधड़, आया अंधड़,
हड़बड़-हड़बड़, आया अंधड़।
गिरी डालियाँ, उड़ते पत्ते,
उड़ती टोपी, कपड़े-लत्ते।
उड़ते बरतन तड़बड़-तड़बड़,
आया अंधड़, आया अंधड़।
गिरी केतली, ढक्कन भागा,
उल्टा इक्का, लुढ़का ताँगा।
धम्म-धड़म-धड़, खड़बड़-खड़बड़,
आया अंधड़, आया अंधड़।
छप्पर-झुग्गी, महल-दुमहले,
आँधी से सबके दिल दहले।
धूल भरी, सब गड़बड़-गड़बड़,
आया अंधड़, आया अंधड़।