भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आयौ चरन तकि सरन तिहारी / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आयौ चरन तकि सरन तिहारी।
बेगि करौ मोहि अभय, बिहारी!
जोनि अनेक फिर्‌यो भटकान्यो।
अब प्रभु पद छाड़ौं न मुरारी!॥
मो सम दीन, न दाता तुम सम।
भली मिली यह जोरि हमारी॥
मैं हौं पतित, पतित-पावन तुम।
पावन करु, निज बिरद सँभारी॥