भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आयौ जुरि उततें समूह हुरिहारन कौ / जगन्नाथदास 'रत्नाकर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आयौ जुरि उततें समूह हुरिहारन कौ,
खेलन कों होरी वृषभान की किसोरी सों ।
कहै रतनाकर त्यों इत ब्रजनारी सबै,
सुनि-सुनि गारी गुनि ठठकि ठगोरी सों ॥
आँचर की ओट-ओटि चोट पिचकारिन की,
धाइ धँसी धूँधर मचाइ मंजु रोरी सों ।
ग्वाल-बाल भागे उत, भभरि उताल इति,
आपै लाल गहरि गहाइ गयौ गोरी सौं ॥