भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आरू जोतन लग्या गज मोंगर ओ / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आरू जोतन लग्या गज मोंगर ओ
आरू जोतन लगी नागर-बेलनि ओ
मऽ राऽ राजकुवर घरऽ माण्डोड।।
आरू जंगल नक्यो गज मोंगर ओ
आरू जंगल नकीऽ नागर-बेलनि ओ
मऽ राऽ राजकुवर घरऽ माण्डोड।।
आरू सिवान प आयो गज मोंगर ओ
आरू सिवान प आई नागर-बेलनि ओ
मऽ राऽ राजकुवर घरऽ माण्डोड।।
आरू गोठान प आयो गज मोंगर ओ
आरू गोठान प आयो नागर-बेलनि ओ
मऽ राऽ राजकुवर घरऽ माण्डोड।।
आरू गल्ली मऽ आयो हर्दया मोंगर ओ
आरू गल्ली मऽ आयी नागर-बेलनि ओ
मऽ राऽ राजकुवर घरऽ माण्डोड।।
आरू आँगन म आयेा हर्दया मोंगर ओ
आरू आँगन म आयी नागर-बेलनि ओ
मऽ राऽ राजकुवर घरऽ माण्डोड।।
आरू गड़न लग्या गज मोंगर ओ
आरू छावन लगी नागर-बेलनि ओ
मऽ राऽ राजकुवर घरऽ माण्डोड।।