भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आलस बस झुकत ग्रीव / नारायण स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आलस बस झुकत ग्रीव, कबं अंगलेत
उपमा सम देत मोहिं, आवत है लाज।
'नारायन' जसुमति ढिंग, हौं तौ गइ बात कहन,
या मैं भये री, एक पंथ दो काज॥