भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आले रँग रँग के तनाले दरवाजन मे / मँजु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आले रँग रँग के तनाले दरवाजन मे ,
परदे मुँदाले औ झरोखे ज्योँ न आवै पौन ।
चारोँ ओर गरम गदाले बिछवाले गाले ,
छाले धूप अगर अँगीठी दहकाले भौन ।
मँजु कवि खाले जरा गजक चढ़ाले मद ,
बीड़ियाँ चबाले भरि बिबिध मसाले जौन ।
भुजन फँसाले तिय उर लपटाले अरे ,
दुबकि दुसाले मेँ कसाले तू मिटाले क्योँ न ।


मँजु का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।